• VNM TV

कनिका कपूर ने अपने खिलाफ उड़ रही अफवाओं पर तोड़ी चुप्पी


सिंगर कनिका कपूर कोरोना संक्रमित होने वाली पहली बॉलिवुड सिलेब हैं। हालांकि अब वह इस वायरस को मात देकर अपने घर पर हैं। जब कनिका कपूर के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर आई थी तब उनके बारे में कई बातें कही जा रही थी। उनके लिए यह तक कहा गया कि उन्होंने एयरपोर्ट पर कोरोना की स्क्रीनिंग को नजरअंदाज किया। इसके अलावा कनिका कई पार्टियों में भी शामिल हुईं थी। जिसमे कई बड़ी हस्तियां शामिल थी। इसकी वजह से उन्हें काफ़ी ट्रोल भी किया गया। लेकिन अब कनिका का कोरोना टेस्ट नेगेटिव आया है और वो स्वस्थ होकर अपने घर भी जा चुकी है। इसलिए उन्होंने इन अफवाहों के मामले में चुप्पी तोड़ी है और अपने सोशियल मीडिया के जरिये लोगों तक अपनी बात पहुँचाई है। कनिका ने लिखा है कि, ' मुंबई एयरपोर्ट पर मेरी स्क्रीनिंग हुई थी और में तब स्वस्थ थीं ।


उस वक्त क्वारंटीन में जाने को लेकर एडवायजरी नहीं थी।मुझे पता है कि मेरे बारें में कई कहानियां बनाई गई हैं। कुछ तो इस वजह से ज्यादा बढ़ी क्योंकि मैं अब तक चुप रही। मैं इसलिए चुप नहीं थी क्योंकि मैं गलत थी बल्कि मुझे पता था लोगों को गलत जानकारी दी गई। मैं बस इंतजार कर रही थी कि लोग खुद सच को समझें। मैं अपने परिवार, दोस्त और सपॉर्ट करने वालों का धन्यवाद करती हूं, जिन्होंने ऐसे वक्त में मुझे समझा। मैं उम्मीद और प्रार्थना करती हूं कि आप सभी इस टाइम में सेफ होंगे।'कनिका कपूर ने आगे लिखा, 'अब मैं आपको सही बातें बताना चाहूंगी। मैं इस समय अपने लखनऊ वाले घर पर पैरंट्स के साथ क्वालिटी टाइम बिता रही हूं। यूके, मुंबई और लखनऊ में जितने लोग भी मेरे संपर्क में आए, उनमें कोविड-19 के कोई लक्षण नहीं दिखे बल्कि सभी टेस्ट निगेटिव आए। जब 10 मार्च को मैं लंदन से मुंबई आई थी तब एयरपोर्ट पर जांच भी की गई थी। उस समय क्वारंटीन में रहने के संबंध में कोई एडवायजरी नहीं थी। (18 मार्च को यूके में एडवाइजरी आई थी) जिसमें लिखा था कि खुद को क्वारंटीन करें। मुझे बीमारी का खुद में कोई लक्षण नहीं दिखा, इसलिए मैंने खुद को क्वारंटीन नहीं किया। इसके बाद जब मैं 11 मार्च को मुंबई से लखनऊ आई, तब एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग नहीं की गई।


तब वहाँ पर कोई व्यवस्था नहीं थी। मैंने 14 और 15 मार्च को दोस्तों के साथ लंच और डिनर किया। खुद कोई पार्टी आयोजित नहीं की। उस समय स्वास्थ्य की कोई समस्या नहीं थी 17 मार्च को जब मुझे कुछ समस्या लगी तो 18 मार्च को खुद से कोरोना वायरस टेस्ट कराने को कहा था। 19 मार्च को टेस्ट में कोरोना पॉजिटिव आने के बाद 20 मार्च को अस्पताल चली गई। मेरे तीन टेस्ट निगेटिव आने के बाद डिस्चार्ज किया गया और मैं 21 दिनों से घर पर हूं। मैं डॉक्टर्स और नर्सेज का धन्यवाद करती हूं, जिन्होंने मेरा ऐसे समय में खयाल रखा। मैं उम्मीद करती हूं कि इस मैटर से लोग सच्चाई और संवेदनशीलता के साथ डील करें। इंसान पर नकारात्मकता थोपने से सच्चाई नहीं बदलती।' कनिका ने इस पोस्ट के ज़रिए अपनी बात लोगों तक पहुँचा दी है।



89 views