• VNM TV

वर्ल्ड कैंसर डे पर एक नजर इन लक्षणों पर...

वर्ल्ड कैंसर डे पर एक नजर इन लक्षणों पर...

इन लक्षणों को ना करें नजरअंदाज..



4 फरवरी को हर साल वर्ल्ड कैंसर डे मनाया जाता है। कैंसर के मामले पहले जहां एक-दो लोगों में देखने या सुनने को मिलते थे, वहीं अब हर दिन कैंसर के मरीजों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। आपको यकीन नहीं होगा लेकिन नैशनल हेल्थ प्रोफाइल 2019 के आंकड़ों की मानें तो भारत में साल 2017 से 2018 के बीच कैंसर के मामले 324 प्रतिशत बढ़ गए जिसमें ब्रेस्ट कैंसर, सर्वाइकल कैंसर और मुंह के कैंसर जैसे सबसे कॉमन कैंसर के मामले शामिल हैं। नैशनल कैंसर रेजिस्ट्री प्रोग्राम की मानें तो भारत में हर दिन कैंसर की वजह से करीब 1300 लोगों की मौत हो जाती है। अब जरा सोचिए, जब ये बीमारी इतनी तेजी से फैल रही है तो इसे अपने और अपने परिवार तक पहुंचने से रोकने का सिर्फ एक ही तरीका है और वो है बचाव। कैंसर के वॉर्निंग साइन्सआज हम आपको उन्हीं संकेतों और लक्षणों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें हम कैंसर के वॉर्निंग साइन्स भी कह सकते हैं। अगर समय रहते आप अपने शरीर में दिखने वाले इन संकेतों पर गौर कर लेंगे तो आप कैंसर से बच जाएंगे। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि अगर कैंसर का पता समय रहते पहले या दूसरे स्टेज में चल जाए तो इसका इलाज आसान होता है और व्यक्ति पूरी तरह से ठीक भी हो जाता है। लेकिन ज्यादातर लोग कैंसर के लक्षणों को पहचान नहीं पाते और जब तक वो इस पर ध्यान देते हैं, तब तक कैंसर आखिरी स्टेज में पहुंच चुका होता है और वह जानलेवा बन जाता है। @इन संकेतों को न करें नजरअंदाज



*यूरीन और स्टूल में अगर खून आए वैसे तो कई बार किडनी में स्टोन की वजह से भी पेशाब में खून आता है। लेकिन अगर किसी के पेशाब और मल दोनों में खून आ रहा है तो तुरंत डॉक्टर से अपनी जांच करवाएं क्योंकि ये किडनी कैंसर या कोलोन कैंसर का संकेत हो सकता है। इसके अलावा अगर किसी को लंबे समय तक कब्ज या डायरिया की दिक्कत हो और इलाज करवाने और दवा खाने के बाद भी समस्या ठीक ना हो रही हो तो एक बार डॉक्टर से मिलकर टेस्ट जरूर करवा लें।


*अचानक वजन तेजी से घटने लगे वैसे तो अगर किसी को टीबी या डायबीटीज हो जाए तो उसके वजन में भी अचानक कमी देखने को मिलती है। लेकिन तेजी से वजन कम होना भी कैंसर का सबसे अहम लक्षण है जिसकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए। अगर किसी व्यक्ति का 2 से 3 महीने के अंदर 8 से 10 किलो वजन घट जाए तो उसे तुरंत कैंसर की जांच करवानी चाहिए। ये पेट का कैंसर या लंग्स कैंसर का संकेत हो सकता है।

*शरीर के किसी हिस्से में हो गांठ शरीर की हर गांठ कैंसर वाली हो ऐसा जरूरी नहीं है लेकिन अगर शरीर के किसी हिस्से में गांठ बन गई हो और वह तेजी से बढ़ रही हो तो देर करने की बजाए एक बार कैंसर का टेस्ट जरूर करवा लेना चाहिए। अमूमन देखने में आता है कि जिन गांठों में दर्द होता है शुरुआत में उनमें कैंसर सेल्स के होने की आशंका कम रहती है। अगर दर्द न हो तो कैंसर की आशंका बढ़ जाती है।


*अगर ब्रेस्ट में दिखे चेंज ब्रेस्ट कैंसर सिर्फ महिलाओं को ही नहीं बल्कि पुरुषों को भी हो सकता है और यह दुनिया के सबसे कॉमन कैंसर में से एक है। ऐसे में अगर आपको अपने ब्रेस्ट में किसी भी तरह की गांठ दिखे, कोई चेंज नजर आए, निप्पल के रंग में अंतर दिखे, किसी तरह की खुजली या डिस्चार्ज हो रहा हो तो इस तरह के संकेतों को तुरंत गंभीरता से लें और डॉक्टर से इसकी जांच करवाएं।

*

अगर किसी व्यक्ति को बार-बार बुखार हो रहा हो, दवा करने के बाद भी बुखार ठीक ना हो तो ये ब्लड कैंसर का शुरुआती लक्षण हो सकता है। वैसे तो कैंसर होने पर इम्यून सिस्टम पूरी तरह से कमजोर हो जाता है जिस वजह से कैंसर के मरीज को बुखार होता ही है। लेकिन अगर किसी को बुखार हो तो इसका मतलब ये नहीं कि उसे कैंसर ही है। अगर बुखार के लक्षण असामान्य हैं तो अनदेखी ना करें और डॉक्टर से टेस्ट करवाएं।


*शरीर में हद से ज्यादा दर्द और थकान आजकल की भागती दौड़ती जिंदगी में किसी का भी थकान महसूस करना आम बात है। लेकिन अगर बिना ठीक से खानपान करने के बाद भी और ज्यादा मेहनत किए बिना ही थकान महसूस हो रही हो और ऐसा लंबे समय तक हो तो ये शरीर में खून की कमी के साथ-साथ कैंसर का भी संकेत हो सकता है। इसके अलावा अगर लगातार सिर में दर्द बना रहता हो या फिर पीठ दर्द लंबे समय से ठीक ना हो रहा हो तो इन शिकायतों को नजरअंदाज करने की बजाए इनकी जांच करवा लें। ये कैंसर के संकेत हो सकते हैं।


*पीरियड्स के बिना हो ब्लीडिंग महिलाओं को पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग होना सामान्य बात है लेकिन अगर पीरियड्स खत्म होने के बाद भी अचानक ब्लीडिंग होने लगे, अगर मलद्वार से ब्लीडिंग होती नजर आए या फिर अगर पीरियड्स के दौरान भी हद से ब्लीडिंग या दर्द हो रहा हो तो इन बातों की अनदेखी ना करें और डॉक्टर से जांच करवाएं। ये कैंसर का संकेत हो सकता है।


*लगातार खांसी हो या खांसने पर खून आए अगर किसी व्यक्ति को लंबे समय से खांसी हो या फिर खांसने पर थूक में खून नजर आए तो हो सकता है ये ब्रॉन्काइटिस या साइनस जैसी बीमारी की वजह से हो। लेकिन साथ ही साथ ये लंग कैंसर या नेक कैंसर का भी संकेत हो सकता है। इशलिए अगर एक महीने से ज्यादा किसी को खांसी रहे और म्यूकस में खून नजर आए तो डॉक्टर से मिलकर कैंसर टेस्ट जरूर करवाएं।


*अनीमिया या खून की कमी जब शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कमी हो जाती है तो ऐसी परिस्थिति को ही अनीमिया कहते हैं। लेकिन अगर शरीर में आयरन की कमी के अलावा किसी और वजह से अनीमिया हो तो इसकी जांच जरूर करवानी चाहिए क्योंकि कई बार कैंसर की वजह से भी अनीमिया होने लगता है। लिहाजा एक्स-रे या इंडोस्कोपी करवा सकते हैं।


*गला बैठा हो या घोंटने में दिक्कत हो रही हो अगर सांस से संबंधी किसी तरह की बीमारी, इंफेक्शन, सर्दी या खांसी की वजह से गला बैठ गया हो या फिर कुछ भी खाने या पीने पर घोंटने में दिक्कत हो रही हो और ये परेशानी 3-4 हफ्ते से ज्यादा समय तक रहे तो इसकी जांच करवानाी चाहिए क्योंकि ये थ्रोट कैंसर का शुरआती लक्षण हो सकता है।


(नोट: ध्यान रखें अगर कोई शारीरिक परेशानी हो रही है तो ये जरूरी नहीं कि वो कैंसर ही है। वह कोई दूसरी सामान्य बीमारी भी हो सकती है। लेकिन सतर्कता बरतना जरूरी है। लिहाजा किसी डॉक्टर से मिलकर और टेस्ट कराने में कोई हर्ज नहीं है और टेस्ट कराने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है।)

9 views