• VNM TV

7 दिन, 12 देश, 64 उड़ानें: कोरोनोवायरस महामारी के बीच भारतीयों को वापस लाने की योजना



भारत सरकार कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण विदेशों में फंसे 14,800 भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाने के लिए 7 से 13 मई तक 64 उड़ानें संचालित कर सकती है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज बताया कि इन विशेष उड़ानों का संचालन एअर इंडिया और उसकी सहायक एअर इंडिया एक्सप्रेस करेगी। वे 12 देशों-- संयुक्त अरब अमीरात, ब्रिटेन, अमेरिका, कतर, सऊदी अरब, सिंगापुर, मलेशिया, फिलीपींस, बांग्लादेश, बहरीन, कुवैत और ओमान से भारतीयों को वतन वापस लेकर आएंगी। भारत में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए 25 मार्च से लॉकडाउन है जिसे 17 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। इस दौरान सभी वाणिज्य उड़ानों का संचालन बंद है। लिहाजा गृह मंत्रालय ने सोमवार को ऐलान किया कि वह ऐसे भारतीयों को स्वदेश वापसी में सुविधा देगा जिनमें कोरोना वायरस महामारी के कोई लक्षण नहीं है। वह 7 मई से चरणबद्ध तरीके से विमानों और नौसेनिक जहाजों के जरिए उन्हें वापस लेकर आएगा जिसके लिए भुगतान करना होगा। अधिकारियों ने पीटीआई-भाषा को बताया कि 7 से 13 मई के बीच, भारत, यूएई के लिए 10, अमेरिका और ब्रिटेन के लिए सात-सात, सऊदी अरब के लिए 5 , सिंगापुर के लिए 5 और कतर के लिए 2 उड़ाने संचालित कर सकता है। अधिकारियों ने बताया कि बांग्लादेश और मलेशिया सात-सात उड़ाने जाने की संभावना है, जबकि कुवैत और फिलीपींस के लिए पांच-पांच उड़ानों का संचालन हो सकता है। इसके अलावा ओमान और बहरीन के लिए दो उड़ानों का संचालन हो सकता है। स्वदेश वापसी की 64 उड़ानों में से केरल से 15, दिल्ली और तमिलनाडु से 11-11, महाराष्ट्र और तेलंगाना से 7-7 और शेष 5 अन्य राज्यों से संचालित होंगी। अधिकारियों ने बताया "सात दिवसीय अवधि के दौरान इन 64 उड़ानों के माध्यम से लगभग 14,800 भारतीय नागरिकों के देश में लौटने की संभावना है। सरकार 13 मई के बाद स्वदेश वापसी के लिए और उड़ानों का संचालन करेगी "

94 views